उत्तरा न्यूज
अभी अभी देश संस्कृति

ऐसा है तेलंगाना (Telangana)- 7 वे स्थापना दिवस पर विशेष

This is Telangana

जब तेलुगु भाषा के लोकसंगीत कानों में अमृत रस घोलने लगे, जब ओग्गु कथा सुनकर व्यक्ति मुग्ध हो जाए, जब बोनालु नृत्य देखकर चकित रह जाए और जब भारत की साझी संस्कृति का प्रतिबिंब दिखने लगे, तो समझना चाहिए कि हम तेलंगाना (telangana) में हैं। आंध्रप्रदेश से विभाजित होकर इस राज्य का गठन वर्ष 2014 में हुआ।

जब तेलुगु भाषा के लोकसंगीत कानों में अमृत रस घोलने लगे, जब ओग्गु कथा सुनकर व्यक्ति मुग्ध हो जाए, जब बोनालु नृत्य देखकर चकित रह जाए और जब भारत की साझी संस्कृति का प्रतिबिंब दिखने लगे, तो समझना चाहिए कि हम तेलंगाना (telangana) में हैं। आंध्रप्रदेश से विभाजित होकर इस राज्य का गठन वर्ष 2014 में हुआ।

पांच हजार वर्ष का इतिहास समेटे है तेलंगाना

तेलंगाना (Telangana) राज्य पांच हजार वर्ष का इतिहास समेटे हुए है। अतीत के पन्ने उलटने पर हम पाते हैं कि, काकातीय वंश से लेकर मुगलकालीन सल्तनत तक, विभिन्न राजवंशों का प्रभाव इस राज्य पर रहा।

यह भी पढ़े….

बधाई: योग विभाग के शोध छात्र दीपक कुमार बने (UOU) यूओयू में असिस्टेंट प्रोफेसर

पौराणिक महत्व की ओर दृष्टि डालें, तो राज्य में वारंगल महत्वपूर्ण स्थान है। 12 वीं सदी में काकतीय वंश की राजधानी रहे इस नगर में , 1000 स्तम्भों वाला मन्दिर भी है।

वारंगल राज्य में लंबे समय तक रानी रुद्रम्मा (रुद्रमाम्बा) देवी ने शासन किया। रामायण और महाभारत की घटनाओं से भी इस स्थान का संबंध जोड़ा जाता है। बाद में मुगल शासकों ने भी राज्य में शासन किया। यही कारण है कि, आज तेलंगाना की संस्कृति में अद्भुत सम्मिश्रण देखने को मिलता है।

क्या है तेलंगाना शब्द (Telangana)का अर्थ ?

तेलंगाना का अर्थ है, वह भूमि जहां तेलुगु बोली जाती है। राज्य की मुख्य भाषा तेलुगु ही है। यह भाषा द्रविड़ परिवार के अंतर्गत आती है। इस भाषा में 75 प्रतिशत शब्द संस्कृत के हैं।

यह भी पढ़े….

Bageshwar- यूथ कांग्रेस ने लोगों की सहायता हेतु जारी किए हेल्पलाइन नंबर

राज्य की अधिकांश आबादी तेलुगु भाषा का प्रयोग करती है। वहीं राजभाषा होने के कारण इसका उपयोग शासकीय कार्यों में भी होता है। विद्यालयों में भी तेलुगु माध्यम में पढ़ाई होती है। तेलुगु भाषा की प्रमुखता होने के बावजूद राज्य में उर्दू भाषा और गोंडी बोली का भी प्रचलन है।

यह भी पढ़े….

उत्तराखण्ड का लोकपर्व है ” घ्यू त्यार

तेलंगाना की भौगोलिक-आर्थिक स्थिति

तेलंगाना (Telangana) की सीमा छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, कर्नाटक और उड़ीसा से लगती है। राज्य का राजकीय पेड़ जम्मी और फूल तांगेडू है। यहां कपास, आम और तंबाकू की खेती होती है।

तेलंगाना (Telangana) में हल्दी का उत्पादन प्रचुर मात्रा में होता है। वहीं, राज्य में चूना-पत्थर , अभ्रक और बॉक्साइट जैसे खनिज भी मिलते हैं। यहां शिक्षा के समुचित अवसर उपलब्ध है। चिकित्सा, अभियांत्रिकी और कला के शिक्षण संस्थान भी राज्य में स्थित हैं। राज्य में 119 विधानसभा सीट हैं और वर्तमान में के. चंद्रशेखर राव तेलंगाना के मुख्यमंत्री हैं।

अद्वितीय सांस्कृतिक बहुल क्षेत्र तेलंगाना (Telangana)

तेलंगाना अद्वितीय सांस्कृतिक बहुल क्षेत्र है। नृत्य, संगीत, ऐतिहासिक अवशेष और साहित्य जैसे विविध क्षेत्रों में राज्य ने पर्याप्त उन्नति की है।

कृष्णा और गोदावरी नदी के प्रवेश द्वार तेलंगाना में, बोनलु लोकनृत्य प्रसिद्ध है। इसमें ग्रामदेव महानकली के समक्ष नर्तक-नर्तकियां रंग-बिरंगे वस्त्र पहनकर नृत्य करते हैं। तालियों की धुन के बीच यह नृत्य होता है। उसी तरह राज्य में ओग्गु लोककथा भी प्रचलित है। इसमें हिन्दू देवताओं जैसे वीरप्पा, येल्लमा आदि का प्रशस्ति गान किया जाता है। इसके अतिरिक्त राज्य में पेरिनि तांडवम नामक नृत्य भी किया जाता है।

राज्य में ऐतिहासिक-धार्मिक महत्व के प्रमुख स्थानों में वारंगल किला, आलमपुर संगेश्वर मन्दिर, पालमपेट स्थित रामप्पा मन्दिर और भद्राचलम मुख्य है। साहित्य की दृष्टि से राज्य में तेलुगु भाषा में सर्वाधिक रचनाएं उपलब्ध है।

यह भी पढ़े….

Almora में शिला में मूर्छित होकर गिर पड़े थे स्वामी विवेकानंद, मुस्लिम फकीर ने की थी मदद

भिटौली (Bhitoli)- बहन, बेटी से मुलाकात, स्नेह और अटूट प्रेम की परंपरा

कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw/videos

Related posts

हिलटॉप इंटरनेशनल अकादमी चौडागूठ, छात्रों के सर्वांगीण विकास हेतु एक आदर्श विद्यालय

Newsdesk Uttranews

ब्रेकिंग : पिथौरागढ़ जिले के मुवानी के पास शव बरामद होने से सनसनी

Newsdesk Uttranews

पिथौरागढ़ हवाई सेवा पर मंडरायें संकट के बादल: दूसरे दिन भी ठप रही सेवा

Newsdesk Uttranews